Monday, December 29, 2008

राजा का आसन

राजा का आसन डोला;
कहीं किसी ने  सच बोला!

इस वासंती मौसम  में,
किसने ये पतझर घोला?

दानिशवर ख़ामोश हुए;
जब मजनूं ने मुंह खोला।

जम कर लड़ा लुटेरों से
जिसका ख़ाली था झोला।

सारा जंगल सूखा है;
तू इक चिंगारी तो ला।

11 comments:

  1. बहुत हे सुंदर कविता है ये...बहुत खूब....

    ReplyDelete
  2. एक दम यथार्थ कविता है। चंद छंदों में ही समाज का यथार्थ रख दिया है आपने।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर लिखी आप ने कविता...सारा जंगल सूखा है;
    तू इक चिंगारी तो ला।
    सच मे एक चिंगारी चाहिये.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. एक चिंगारी की ही तो ज़रूरत है. बहुत ही सुंदर रचना. नव वर्ष आप और आपके परिवार के लिए मंगलमय हो.

    ReplyDelete
  5. नये साल का लेकर आ

    गया पहचानो मुझे देखो

    इक झोला है, मैं बोला है।

    ReplyDelete
  6. mast hai...gaagar mein saagar bharne jaisa tha...kam shabdo mein badi baat

    नये साल की सुभकामनायें :)

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर !!

    सादर

    ReplyDelete
  8. bahut badiyaa badhaai naya saal mubarak

    ReplyDelete
  9. इस वासंती बचपन में,
    किसने ये पतझर घोला?
    ...Lajwab hai...badhai.

    ReplyDelete
  10. चिंगारी की मानिंद है
    यह रचना.
    =========
    बधाई
    डॉ.चन्द्रकुमार जैन

    ReplyDelete