Saturday, January 10, 2009

हमने पूछा

हमने पूछा ज़िंदगी की रहगुज़ारों का पता;
आपने हमको बताया चाँद-तारों का पता।

मुद्दतों पहले गिरा था आँधियों में इक शजर,
खोजती है आज तक बुलबुल बहारों का पता।

जिनके हाथों का हुनर ताज-ओ-पिरामिड में ढला,
क्या किसी को याद है उनके मज़ारों का पता?

धूप के छोटे से टुकड़े की ज़रूरत है उसे;
पूछता फिरता है सूरज अन्धकारों का पता।

नाख़ुदाओं के भरोसे डूबना तय था नदीम;
हमने तूफ़ानों में पाया है किनारों का पता।


16 comments:

  1. धूप के छोटे से टुकडे की है जरूरत उसे---- बहु बडिया भाव हैन बधाई

    ReplyDelete
  2. बहोत खूब नादिम भाई बहोत ही बढ़िया लिखा है अपने

    ढेरो बधाई कुबूल करें.
    अर्श

    ReplyDelete
  3. नाख़ुदाओं के भरोसे डूबना तय था नदीम;
    हमने तूफ़ानों में पाया है किनारों का पता।
    बहुत सुंदर, बहुत ही सुंदर भाव.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. वाह! वाह ! बहुत अच्छी लगी रचना ।
    "जिनके हाथों का हुनर ताज-ओ-पिरामिड में ढला,
    क्या किसी को याद है उनके मज़ारों का पता?"
    "नाख़ुदाओं के भरोसे डूबना तय था नदीम;
    हमने तूफ़ानों में पाया है किनारों का पता।"
    सादर।।

    ReplyDelete
  5. वाह साहब. बहुत उम्दा ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर लिखा है....बधाई।

    ReplyDelete
  7. प्रभावशाली.
    ===============
    डॉ.चन्द्रकुमार जैन

    ReplyDelete
  8. "kb talak hm oas ki boondoN meiN yooN dhalte raheiN ,
    koi to aa kar btaae
    aabsharoN ka ptaa.."

    Huzoor aapki khoobsurat ghazal parh kr bahot hi mohtaasir hua hooN
    mubarakbaad qubool farmaaeiN.
    ---MUFLIS---

    ReplyDelete
  9. बेहतरीन ग़ज़ल...हर शेर बहुत खूबसूरत है...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete
  10. मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ
    मेरे तकनीकि ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित हैं

    -----नयी प्रविष्टि
    आपके ब्लॉग का अपना SMS चैनल बनायें
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

    ReplyDelete
  11. आपको लोहडी और मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएँ....

    ReplyDelete