Wednesday, October 8, 2008

राम जी से

राम जी से लौ लगानी चाहिए;
फिर कोई बस्ती जलानी चाहिए।

उसकी हमदर्दी के झांसे में न आ;
मीडिया को तो कहानी चाहिए।

तू अधर की प्यास चुम्बन से बुझा;
मेरे खेतों को तो पानी चाहिए।

काफिला भटका है रेगिस्तान में;
उनको दरिया की रवानी चाहिए।

लंपटों के दूत हैं सारे कहार,
अब तो डोली ख़ुद उठानी चाहिए।

12 comments:

  1. उसकी हमदर्दी के झांसे में न आ;
    मीडिया को तो कहानी चाहिए।
    " very well said, good creation"

    regards

    ReplyDelete
  2. गजब।
    उसकी हमदर्दी के झांसे में न आ;
    मीडिया को तो कहानी चाहिए।
    लेकिन कई मामलों में मीडिया की वजह से ही इंसाफ भी मिला है।

    ReplyDelete
  3. राम जी से लॊ......
    बहुत खुब

    ReplyDelete
  4. क्या तेवर हैं ! बहुत खूब ।

    राजनेताओं को अब तो आपकी
    रोज नई गजलें पढानी चाहिए।

    गुम गयी अंगूठी फिर दुष्यंत की
    अब कोई दूजी निशानी चाहिए।

    ReplyDelete
  5. वह अमर भाई !
    इस सादगी पै कौन न मर जाए ऐ खुदा
    लड़ते हैं मगर हाथ में शमशीर भी नहीं !

    मज़ा आ गया !

    ReplyDelete
  6. बहुत जबरदस्त कहा ! शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  7. भई वाह इस बार आपकी रचना ने मोह लिया
    साधुवाद

    ReplyDelete
  8. अमरजी
    बहुत गहरी बात कही आपने

    अपनी डोली खुद उठानी चाहिये,

    सादर

    राकेश

    ReplyDelete
  9. राम जी से लौ लगानी चाहिए;
    और फिर बस्ती जलानी चाहिए।

    उसकी हमदर्दी के झांसे में न आ;
    मीडिया को तो कहानी चाहिए।
    ज़िंदगी को बेबाकी से बयां करती हुई कविता

    ReplyDelete